गुरु का महत्व Short Story on Importance of Teacher

Importance of Teacher in Hindi

Importance of Teacher story in hindi

गुरु का महत्व

A short story on importance of teacher in our life एक नगर में एक सेठ रहता था। उसके कोई गुरु नहीं थे, उसने अपने नौकर से कहा बाहर जाकर ऐसे व्यक्ति को लाओ जो मेरा गुरु बन सके। नौकर गया और एक व्यक्ति को लाया वह चौर था।  

सेठ को पता नहीं था कि वह चौर है। सेठ ने उसे अपना गुरु बना लिया।  कईं साल तक चौर सेठ के घर में रहा। एक दिन सेठ सामान खरीदने के लिए बाहर गया।

वह अपने गुरु को साथ ले गया। रास्ते में एक नदी पडी । उस चौर ने सेठ से कहा कि गर्मी बहुत हैं नदी में स्नान कर लिया जाये। सेठ नदी में स्नान करने गया। वह किनारे पर अपना सारा सामान रख गया।  

चौर ने सेठ से कहा- आप नदी में आंख बंद करके डूंबकी लगाओ और जब तक मैं आपको आवाज ना दूं तब तक आप पानी से बाहर मत निकलना। सेठजी जैसे ही डूबकी लगनाने लगे चौर सारा पैसा लेकर चंपत हो गया।

काफी देर हो गई सेठ पानी में ही खडा रहा। भगवान चौर के पास गये और उससे कहा कि सेठ ने तुम्हारें उपर विष्वास किया और वह अभी भी पानी में खडा तुम्हारा इंतजार कर रहा है।  

चौर भगवान के साथ नदी पर आया। उसने सेठ को आवाज दी।  सेठ अपने गुरु की बात सुनकर बाहर आया। भगवान ने सेठ को अपना असली रूप दिखया।  सेठ अपने गुरु के पैरो में गिर गया उसने कहा.

गुरू गोंविद दोउ खडे कांके लागू पांय। बलिहारी गुरू आप ही जो गोविंद दियो बताय। हमें इससे यह शिक्षा मिलती हैं कि हमें अपने गुरु की बुराई नहीं करनी चाहिए, उन पर सच्ची श्रद्धा रखनी चाहिए।

loading...

Leave a Reply

error: Please Share This but dont Copy & Paste.