सिर दर्द का इलाज के 5 आसान उपाय और घरेलु नुस्खे

ठण्ड लगने, नजला, जुकाम या कमजोरी, गैस बनने एवं बुखार आने से होने वाले कपाल के दर्द को ही माथा दर्द दुखना भी कहते हैं. अगर समय पर सर दर्द का इलाज न करवाया जाए तो यह एक बड़ी बीमारी में तब्दील हो सकता है, ऐसे में रोगी को सर की कोई बीमारी भी हो सकती है.

ठंडी हवा लगने, सर्दी जुकाम और पेट की खराबी होने, ज्यादा ठन्डे पदार्थ खाने, गैस बै, ज्यादा देर तक जागने, ज्यादा पढ़ने या लिखने, ज्यादा सोचने, पुराणी चोट या माथे की नस की खराबी आदि के करने से सर दर्द होता है.

सिर दर्द का इलाज

sir dard ka ilaj, sir dard ka ilaj in hindi, sir dard ke upay, sir dard ke upay in hindi

Sir Dard Ke Upay Ilaj in Hindi

सिर दर्द के लक्षण

सर के अगले हिस्से में या सिर के दोनों तरफ, कान के ऊपर की नसों में दर्द होना सबसे प्रमुख लक्षण है. यह दर्द कभी आगे, कभी पीछे या सिर के बीचोबीच होता है.

वातज सिर दर्द – व्यत्कि के माथे में बिना कारन ही दिन में कम और रात में ज्यादा दर्द होने लगे और सिर को बढ़ने या तपाने से दर्द शांत हो जाये तो उसे बाड़ी का सिर यानी वातज सिर दर्द समझे.

पित्तज सिर दर्द – मस्तक फुट जाये, अग्नि जैसी जलन हो, आँखों में दर्द और नाक में जलन हो, लेकिन रात में ठण्ड की वजह से दर्द कुछ कम हो जाये तो पित्तज सिर दर्द समझे.

कफज सिर दर्द – सिर कफ से भरा हुआ हो, आंख, नाक और मुंह पर सूजन आजाये तो इसे खपज सिर दर्द समझें.

वातज सिर का इलाज के लिए

  • वातहारी तेल या साधारण तेल की मालिश और वातहरिणी औषधि का सेवन करने से बड़ी का सिर दर्द दुखना बंद हो जाता है. वातहारी तेल, अंजनी और वतरणीं औषधि : योगराज गुग्गल और शिरसुलादि आती की दो दो गोली सुबह शाम दूध के साथ लें.
  • उडद के आटे की रोटी बनाकर रात के पहर में माथे पर बढ़ने से वातज सिर दर्द या वात सम्बन्धी पीड़ा दूर हो जाती है.
  • खरकुठार रस का नास सूंघना देने से सिर की अनेक प्रकार की पीड़ाये शांत होती है.

पित्तज सिर दर्द

  • चन्दन और कमलगट्टे को शीतल ठन्डे पानी के साथ पीसें और लेप को सिर पर लगाए. इससे पित्त जन्य सिर दर्द शांत होगा.
  • सौ बार धोया हुआ घी पानी से धोकर को माथे पर लगाने से पित्त का सिर दर्द ठीक होगा.
  • खरकुठार रस, कपूर, केसर, मिश्री और चन्दन को बकरी के दूध में पीसकर लेप करे तो पित्त का सिर दर्द दूर होगा. यह औषधीन पंसारी या जड़ी बूटियों की दुकान पर आसानी से मिल जाती है.
  • हिचकी रोकने के 20 उपाय

कफज सिर दर्द

  • भूख लगने वाली आयुर्वेदिक औषधियां या कफनाशक औषधियों को पीसकर थोड़ा गरम कर सिर पर लगाए. इससे कफ के कारन मैथ दुखना बंद होगा.

अन्य

  • आंवला, सिप का चुना और नौसादर को हथेली पर मसलकर सूंघे तो सब तरह के सिर दर्द ठीक होंगे. यह एक बेहतरीन सिर दर्द का उपाय है.
  • सोंठ, पिप्पली, पोहकरमूल, हल्दी, रसना, देवदारु और असगंध का काढ़ा सबको पीसकर आठ गुने पानी में डालकर उबलने पर एक चौथाई रहने पर काढ़ा तैयार होता है. इस काढ़े को पिने से सभी तरह के सिर दर्द का इलाज हो जाता है.
  • मिश्री और नार की कली को पीसकर सूंघे या मुचुकंद के पुष्पों को पीसकर लेक परे. सिर दर्द शांत होगा.
  • कूट एवं अरंड की जड़ को कांजी कई में पीसकर लेप करे या देदारु, तगर, कूट, खाश सोंठ और तिलो को कांजी में पीसकर लेप करे तो मस्तक की समस्य पीड़ा दूर हो जाती है.
  • अजवाइन के 51 फायदे

अगर आप यह सिर दर्द के घरेलु इलाज करते है तो आपको बिना किसी सिर दर्द की दवा के ही दर्द से छुटकारा मिल जायेगा.

3 Comments

  1. Azharuddin Ansari
  2. Arshad Siddiqui
  3. rajubhai

Leave a Reply

error: Please Share This but dont Copy & Paste.