Sikhism Religion Beliefs – सिख्ख धर्म की विशेषताएं कौन-कौन सी है

Sikhism Religion Beliefs in Hindi

सिख्ख धर्म की विषेषताऐं कौन-कौन सी है ?

Sikhism धर्म Religion एक ईश्वरवादी धर्म है। यह सिर्फ एक वाहेगुरु (परमात्मा – God ) को मानता है। जिससा अन्य कोई नहीं है और जो समय व स्थान की बंदिशों से दूर है।

एक वह ही सारी दुनिया का रचनाहार है। पालनहार तथा नाश करने वाला है। सिख्ख Sikh में धर्म एवं सदाचार साथ-साथ चलते है। आत्मीक प्रफुल्लता के लिए इखलाखी गुण एवं शुभ ग्रहण करने तथा उनको नित्य के जीवन में ढालना अति अनिवार्य है।

सच्चाई, दया , विशाल हृदय, संतोष, नम्रता आदि गुणों को जीवन में धारण करने के लिए विशेष प्रयासों एंव साधनो की आवश्यकता ।

गुरु साहिबान की जीवनीयों से हमें पता लगता हैं कि उन्होंने कैसे शुभ गुणों वाले आदर्श जीवन जीयें। सिख्ख धर्म अवतार वाद में विश्वाश नही रखता।

भाव वह यह नही मानता कि परमात्मा मानवीय शारीर धारण करता है। वह देवी देवताओं में विश्वाश नहीे रखता। सिख्ख धर्म में रीति रिवाजों एवं कर्मकाण्डों का कोई स्थान नहीं है।

जैसे कि व्रत उपवास रखने, तीर्थ यात्रा करने, शगुन अपशगुन मानने पूर्णमासी अमावस्या, सक्रांति मनाना या तप आदि करने, मनुष्य के जन्म का उद्देश्य वाहेगुरु में अभेद होना हैं ।

यह अवस्था गुरु के उपदेश पर चलकर सच्चे नाम का स्मरण करके तथा सेवा एवं जरूरतमंदो की सहायता करके ही प्राप्त हो सकती है। नाम स्मरण को कीर्तन का एक बढिया साधन माना गया है।

सिख्ख धर्म भक्ति मार्ग अथवा प्रेम का मार्ग है। लेकिन साथ ही यह ज्ञान एवं कर्म मार्ग के महत्व को भी मान्यता देता है। आत्मिक उन्नती के वास्तविक निशान पर पहूंचने के लिए आकाश-पुरब की कृपा प्राप्त करना भी सिख्ख धर्म मे अति अनिवार्य है।

  • सिख्ख धर्म एक नया वैज्ञानिक एवं व्यावहारिक धर्म है।
  • सिख्ख फिलोसाफी के अनुसार पारिवारिक जीवन मुक्ति की प्राप्ति हेतु कोई बंधन नहीं है।
  • विश्व के दुखों क्लेशो एवं लोभ लालचों मे विचरते हुए भी मनुष्य को इनसे निर्लेभ रहने की आवष्यकता है।
  • एक धैर्यवान सिख्ख ने इस जगत में रहना लेकिन उसने अपना ध्यान इन साांसारिक समस्याओं एवं झंझटों से दूर रखना है।
  • गुरु साहिब जी का उद्देश्य था कि जीवन का एक विशेष मनोरथ एवे विशेष लक्ष्य है।
  • अपने आप की पहचान करते तथा ईष्वर की प्राप्ति हेतु यह मानवीय जीवन का अवसर प्राप्त हुआ है
  • लेकिन साथ ही मनुष्य को अपने किये कर्माे का फल भुगतना पडेगा। वह अपने किये कर्मों के फल भुगतने से बच नहीं सकता अतः कार्य करने के समय. उसको बहुत सावधान रहना चाहिए ।
  • सबसे महत्वपूर्ण बात यह हैं कि श्री गुरुग्रंथ साहिब युगों-युग अटल गुरु है।
  • सिख ही एक ऐसा धर्म हैं जिसने कि अपनी पवित्र धर्मग्रंथ को धार्मिक शिक्षा दाता गुरु का दर्जा दिया है।
  • दस गुरु साहिबों के पश्ताप सिख्ख धर्म में देहधारी गुरु का कोई स्थान नहीे है।
  • गुरु की आत्मा ग्रंथ में एवं शारीर पंथ में सिख्ख धर्म का अद्वितिय सिद्धांत है।
  • जाति पाति का विराध एवं मानवीय एकता धर्म एवं राजनीति का सुमेल, भक्ति एवं शक्ति की रथ करना तथा बांटकर खाना, जीवित रहने ही माया एवं बंधनों और विकारों से मुक्ति, संगत एवं पंगत किसी पुजारी श्रैणी का ना होना स्त्री-पुरुष समानता, धार्मिक स्वतंत्रता एवं अत्याचारों के विरोध में कुर्बानी से पीछे न हटना आदि सिख्ख धर्म की विशेषताएं है।
  • गुरु नानक देव से गुरु गोविन्दसिह तक सभी सिख्ख गुरु केश धारी थे। यहां तक कि गुरुग्रंथ साहिब में जिन भक्तों एवं संतो की वाणी दर्ज हैं वे सभी भी केषधारी थे।
  • इसका स्पष्ट प्रमाण गुरुग्रंथ साहिब में भी मिलता है।
  • प्रत्येंक सिख्ख का केषधारी होना बहुत जरूरी है। केशों का अपमान करके सिख्ख, सिख्ख नही रहता वह पतित हो जाता है। कोई व्यक्ति जिसके केष रोम-बाल संपूर्ण नहीं है, वह सिख्ख नहीे कहला सकता ।
  • सिख्ख मतलब शिष्य और जो शिष्य अपने गुरु की आज्ञा न माने वह शिष्य सिख्ख कैसा।

कृपया SHARE करना न भूल और Comments के जरिए हमें बताएं की यह लेख आपको कैसा लगा

loading...

Leave a Reply

error: Please Share This but dont Copy & Paste.