बीरबल और लालची दुकानदार, Akbar Birbal Ki Kahani Hindi Me

Akbar Or Birbal ki kahani

akbar or birbal ki kahani

* पतीले का बच्चा *

एक बार बीरबल को शहर के लोगों ने आकर एक लालची बर्तनों के दूकानदार के बारे में शिकायत की कि वह बहुत लालची है | उसे सबक सिखाओ | यह सुनकर बीरबल दुकानदार के पास गए और वहां से तीन बड़े-बड़े पतीले खरीद लाए | कुछ दिन के बाद वह एक बहुत छोटी-सी पतीली लेकर लालची दुकानदार के पास पहुंचे और बोले,

“यह आपके बड़े पतीले ने बच्चा दिया, कृपया इसे रख लें |” दूकानदार बहुत खुश हुआ और ख़ुशी-ख़ुशी छोटी पतीली ले ली | 

कुछ दिन के बाद बीरबल एक बड़ा पतीला लेकर दूकानदार के पास गए और बोले, “मुझे यह पतीली पसंद नहीं आई, आप मेरे पैसे मुझे वापस कर दीजिये |”
दुकानदार बोला, “लेकिन यह तो सिर्फ एक ही है, जबकि मैंने तुम्हें तीन पतीले दिए थे |”

बीरबल ने कहा, “जी, असल में दो पतिलों कि मृत्यु हो गई है ” दुकानदार ने जवाब दिया, “जाओ-जाओ क्यों बेवक़ूफ़ बनाते हो ? क्या पतिलों कि मृत्यु होती हैं ?” बीरबल ने जवाब दिया, ” क्यों नहीं, जब पतिलों के बच्चे पैदा हो सकते हैं, तो मृत्यु भी हो सकती है |”

दुकानदार को बीरबल के पैसे वापस करने पड़े | और दुकानदार को “सेर का सवा सैर” भी मिल गया | बीरबल कि होशियारी का कोई जवाब नहीं, उनके जैसे बुद्धिमान पुरुष के किस्से बहुत ही काम सुनने को मिलते हैं |

Also Read : 

loading...

Leave a Reply

error: Please Share This but dont Copy & Paste.