Akbar birbal stories

बीरबल की अक्लमंदी | Chutkule & Jokes Of Akbar Birbal

Akbar Birbal Ke Chutkule

hindi chutkule akbar birbal funny

अकबर की बादशाहत

“बीरबल |” बादशाह ने कहा,
“अगर बादशाहत हमेशा कायम रहती, यानी जो बादशाह होता,
वह सदैव ही शासन करता तो कैसा अच्छा होता ?”
“जहाँपनाह,” बीरबल ने नम्रतापूर्वक उत्तर दिया,
“आपका कहना बिलकुल उचित है लेकिन यदि ऐसा होता
तो भला सोचिये उस सूरत में
न आप बादशाह होते और न ही आपकी बादशाहत |”

बेहूदी जबान

एक दिन बादशाह और बीरबल बैठे-बैठे गप्पे लड़ा रहे थे |
बादशाह ने कहा, “बीरबल, तुम्हारी संस्कृत कैसी बेहूदी जबान है,
जिसमें शरीर के एक प्रधान अंग पैर को ‘पाद’ कहते हैं |”
बीरबल ने तुरंत उत्तर दिया,” जहाँपनाह अपराध क्षमा हो |
फ़ारसी तो इससे भी ज्यादा बेहूदी जबान लगती है,
उसमें हाथ जैसे उत्तम अंग को ‘दस्त’ कहते हैं |”

छींक

उस दिन अकबर बादशाह किसी ख़ास मसले पर बीरबल से बातें कर रहे थे |
अचानक बीरबल के बहुत रोकने पर पर भी उनकी छींक निकल पड़ी |
बादशाह ने कहा, “बीरबल तुम बड़े बेवक़ूफ़ हो |”
बीरबल ने हौले से उत्तर दिया, “जी जहाँपनाह,
पर में आपसे बड़ा कभी न हो सकूंगा |”

सवाल जवाब

एक बार बादशाह ने सवाल किया,
“पंडित प्यासा क्यों और गधा उदास क्यों ?”
बीरबल ने फ़ौरन जवाब दिया, “लोटा न था”
“आलमपनाह, पंडित के पास लोटा न होने से वह प्यासा रह गया
और गधा न लोटे उदास रहा |”
बादशाह दो सवालों का एक जवाब सुनकर बहुत खुश हुए |

चार सवाल

एक दिन अकबर बादशाह ने बीरबल से चार प्रश्न किये
और कहा, इनका एक ही उत्तर दो |
बादशाह के चार सवाल थे |
पान क्यों सड़ा, घोडा क्यों अड़ा, रोटी क्यों जली और पाठ क्यों भुला |
बीरबल ने कुछ क्षण सोचा और फिर उत्तर दिया,
“फेरा न गया |”

कौन चलता है

एक दिन राजा ने इधर-उधर की बातें करने के बाद पूछा
की हर वक्त कौन चलता है ?
उत्तर में किसी ने सूर्य को बताया, किसी ने पृथ्वी को
तथा इसी तरह किसी ने चन्द्रमा आदि को बताया |
बादशाह ने जब बीरबल से पूछा तो उन्होंने उत्तर दिया की आलमपनाह !
क़र्ज़ का ब्याज (सूद) हर वक्त चलता है |
इसे कभी थकावट महसूस नहीं होती | दिन दूनी रात चौगुनी वेग से चलता है |
बादशाह उत्तर सुनकर प्रसन्न हो गए |

*Akbar birbal Jokes in Hindi Language*

Also Read :

loading...

Related Articles

2 thoughts on “बीरबल की अक्लमंदी | Chutkule & Jokes Of Akbar Birbal”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Please Share This but dont Copy & Paste.
Close