नमक खाने के 51 आश्चर्यजनक फायदे – Useful Benefits of Salt in Hindi

Namak Salt Benefits in Hindi

namak salt benefits in hindi

Salt The Taste Of Foods

aaj hum aapko namak khane ke fayde or labh ke baare mein puri jaankari denge. Namak ka hum rojana subah or shaam khana khaate samay upayog karte hai esliye yah janna bahut jaruri hai ki jo namak hum khate hai uske kya-kya nuksan side effects hote. padiye namak khane ke nuksan ke baare mein.

लोग जरुरत से ढाई गुना अधिक नमक खाते हैं. ज्यादा नमक खाने से ह्रदय रोग का खतरा इक्कीस प्रतिशत और घातक रोग का खतरा 34 प्रतिशत तक बढ़ जाता हैं . ज्यादा नमक शरीर से Calcium सोख लेता हैं और हड्डियों को कमजोर कर देता हैं, इससे ऑस्ट्रियोपोसिस भी हो सकता हैं.

  • ज्यादा नमक खाने से गर्मियों में अलाइयां अधिक निकलती हैं.
  • नमक खाने से बुढ़ापा जल्दी आता हैं.

ab padiye total salt ke benefits in hindi me में.Black, rock, epson, sea, Kala Namak Black salt – थकान, Typhoid, Dehydration, मुंह के छालें, मनोबल बढ़ाए, अपच, हिचकी, पैरों की सुंदरता, कुत्ते का काटना, कैंसर, जहर पि लेने पर, कील मुंहासें, Sun Burn, झुर्रियां, मोटापा, Low Blood Pressure, गठिया रोग, Sciatica, सिरदर्द, TB के रोग, त्वचा की कोमलता, मोच व चोट, दाद, आँखों में दर्द, पेटदर्द, दस्त, भूख नहीं लगना, मुंह की बदबू, उल्टी, कब्ज, Sendha namak दांत – मसूड़ों का दर्द, मासिक धर्म, मलेरिया बुखार, मिर्गी, ज्वर, खांसी, अनिद्रा, सुंदरता, सर्दी जुकाम, अपच, ज्यादा प्यास लगना, नकसीर, दमा पथरी आदि. नमक से होने वाले फायदे-लाभ के बारे में पूरी जानकारी लेने के लिए निचे पड़े. (Gharelu nuskhe)

Namak Ke Achuk Fayde Or Labh

थकान और कमजोरी को दूर करें.
थके हुए अंगो को नमकीन पानी में 10 मिनट डुबोकर धोएं. सारा शरीर थका हुआ हो तो नमक की 5 चम्मच बाल्टी में घोलकर नहाएं.
चलने से पैरों में थकावट दर्द होने पर गर्म पानी में नमक घोलकर पाँव डुबोये रखें दर्द, थकावट जल्दी ही दूर हो जाएगी.

  • टाइफाइड को ख़त्म करता है (Typhoid)

एक चम्मच नमक एक ग्लास पानी (बड़ों के लिए) में घोलकर दिन में एक बार तिन दिन तक पिलाएं. अगर तेज प्यास लगने लगे तो पानी न पिलाएं. जीभ तर रखने के लिए घूँट-घूंट पानी पिलाए. अधिक पानी न पिलाएं. इससे ज्वर सामान्य हो जाता हैं और टाइफाइड अपनी अवधि से पहले ही ठीक हो जाता हैं.

  • डिहाइड्रेशन से बचाव Salt benefit

दस्त होने पर नमक कोग्लूकोज पानी में घोलकर बार-बार पिलाते रहने से शरीर में पानी की कमी, खुश्की नहीं आती. यह जानकारी डिहाइड्रेशन थेरेपी की संगोष्ठी में दी गई हैं.

  • मुंह के छालें ख़त्म करें

मुंह में छाले होने पर एक ग्लास गुनगुने पानी में एक चम्मच नमक मिलाकर रोजाना 3 बार गरारे करें. गरारे करने पर थोड़ी सी जलन होगी, लेकिन छालों के घाव शीग्र भर जायेंगे | छालों के समय मसाले कम से कम खाएं क्योंकि मसाले छाले बढ़ाते हैं | मोटी महिलाओ को भी मसाले कम खाने चाहिए |

  • काम में मन नहीं लगना (मनोबल बढ़ाए)

अगर आपका अपने काम में मन नहीं लगता हो तो सोने के कमरे में आधा किलो सेंधा नमक, चीनी या मिटटी के बर्तन में रखें | नाहने के पानी में थोड़ा सा नमक डाल कर नहाएं | इससे मनोबल बढ़ेगा |

namak fayde

  • अपच (भोजन का नहीं पचना)

पाचनशक्ति खराब हो, हलके भोजन से भी दस्त लग जाएं, कभी पेचिश, कभी कब्ज, शरीर दुर्बल होता जाए तो 5 ग्राम काला नमक गर्म पानी में घोलकर पिने से लाभ होता हैं | बच्चों को ज्यादातर एक-दो माह में देना चाहिए |

  • हिचकी ख़त्म करना

काला नमक चौथाई चम्मच, आधे नीबू का रस एक चम्मच शहद मिलाकर लेने से शीग्र ही हिचकी बंद हो जाती हैं | हिचकी जब तक बंद न हो हर 20 मिनट बाद लेते रहे |
60 ग्राम पीसी हुई राय एक किलो पानी में उबालें | चौथाई पानी रह जाने पर अपने टेस्ट के हिसाब से सेंधा नमक मिलाकर पिटे रहने से हिचकी बंद हो जाती हैं | सेंधा नमक पानी में घोलकर नाक में टपकाने से हिचकी बंद हो जाती हैं |

  • पैरों की सुंदरता Faydemand Namak

हाथों, बाँहो को जिला करके एक मुट्ठी नमक लेकर गोलाकार गति से बांहों की मालिश करें | ऐसा प्रति सप्ताह करें | इससे बांहों की त्वचा में कोमलता आएगी | or aage padein namak ke faydei  hindi me.

  • कुत्ते का काटना

कुत्ता काटने पर तुरंत लहसुन की कलियों पर नमक डालकर पीसकर कुत्ता काटे स्थान पर लेप करने से रैबीज के संक्रमण से बचाव होता हैं |

  • कैंसर में न खाएं नमक

एक शोध के अनुसार नमकीन भोजन पदार्थों का सेवन पेट के कैंसर की सम्भावना को दोगुना करता हैं | कैंसर के मरीजों का बहुत कम मात्र में नमक का सेवन करना चाहिए, जितना ज्यादा नमक कैंसर के मरीज खायेगा उसे उतना ही दर्द होगा और कैंसर भी बढ़ेगा | इसलिए नमक कम खाएं | (salt benefits hindi)

  • जहर पि लेने पर

किसी भी तरह का जहर खा-पि लेने पर 4 चम्मच नमक को 1 गिलास गर्म पानी में घोलकर ऐसे 2-3 ग्लास गर्म पानी पिलाएं | खड़े होकर आगे की और 90 डिग्री में आधा झुककर पेट दबाएं और कंठ में अपनी उंगली डालें | इससे उलटी होगी | इस क्रिया को कर के जितना पानी पीया हैं, सारा निकाल दें | इससे विष निकल जायेगा | उलटी कराने के बाद 50 ग्राम घी गर्म करके चौथाई चम्मच पीसी कालीमिर्च मिलाकर जितना पि सके, पिलाएं |

  • विषैले दंश (जहर को ख़त्म करे)

विषैली मक्खी के डंक पर पानी डालकर नमक रगड़ें | इससे जलन, दर्द नहीं होगा, सूजन भी नहीं आएगी | नमक का पानी पिलाएं |

  • कील मुंहासें को ख़त्म करें

चौथाई चम्मच अदरक के रास में चुटकी भर नमक मिलाकर रात को सोते समय चहरे पर लगाएं और सुबह मुंह धोलें | कील मुंहासे ख़त्म हो जायेंगे |

  • धुप में झुलुसना (Sun Burn)

धुप से त्वचा चेहरा काला पढ़ जाये तो कच्चे दूध में जरा सा नमक डालकर काले धब्बों पर मलें | आधा घंटे बाद धोएं त्वचा निखर जायेगी |

  • झुर्रियां – चहरे की झुर्रिया ख़त्म करें

2 ग्लास गर्म पानी में दो चम्मच नमक घोलकर रुई के फोहे को पानी में भिगोकर झुर्रियों पर हर तीसरे दिन एक बार धोएं | इससे झुर्रियां मीट जाएंगी |

  • मोटापा घटाने का तरीका

मोटापे से बचने के लिए नमक कम खाएं | वजन जरुरत से अधिक हैं तो भोजन में नमक पर नियंत्रण रखें |
मोटापा घटाने के लिए नमकरहित भोजन करना अच्छा हैं |

  • निम्न रक्तचाप (Low Blood Pressure)

जिनके रक्त का दबाव कम रहता हैं उन्हें दिन में दो या तिन बार एक चम्मच नमक और एक चम्मच चीनी बुरा को पानी में घोलकर पीना चाहिए | इससे आराम मिलता हैं | (namak ke faide hindi me)
अमेरिकी वैज्ञानिकों का कहना हैं की रक्तचाप बढ़ने का संबंध पौष्टिक तत्तवों की कमी से हैं, किसी पदार्थ को अधिक मात्र में खाने से नहीं | मनुष्य और पशुओं पर किये गए प्रयोगों से यह धारणा भी गलत सिद्ध हुई की नमक में होने वाली सोडियम धातु से रक्तचाप बढ़ता हैं | पता चला की इससे रक्तचाप कम होता हैं | लेकिन इसका मतलब यह नहीं होता की आप जी भर कर नमक खाने लगें | सामान्य मात्र में ही नमक का सेवन करें |

  • गठिया या आमवात रोग को दूर करें

अगर जोड़ों पर सूजन और दर्द तेज हो तो नमक या बालू मिटटी गर्म करके पोटली में बांधकर सेंक करें |
दर्द और सूजन में आराम होगा | आधा चम्मच नमक चार चम्मच तिल के तेल में मिलाकर गर्म करके गठिया ग्रस्त स्थान की मालिश करने से दर्द, सूजन में आराम होता हैं | गर्म पानी में नमक डालकर उसमें कपड़ा भिगोकर सेंक करें |

  • साइटिका के दर्द का इलाज (Sciatica)

15 ग्राम भांग और एक चम्मच नमक लें और दोनों को एक किलो पानी में उबालें | इसमें एक कपड़ा भिगोकर दर्द वाली टांग के पीड़ित स्थान पर सेंक करें | इस प्रकार प्रतिदिन दो बार सेंक करें | लगभग 15 दिन में साइटिका का दर्द ठीक हो जायेगा |

  • सिरदर्द ख़त्म करे

एक चुटकी नमक जीभ पर डालकर चूसते रहे, नमक चूसने से समाप्त होने पर पुनः चुटकी भर नमक जीभ पर डालकर इस तरह लगातार 10 मिनट तक चूसें | बाद में एक ग्लास ठंडा पानी पियें, सिरदर्द ठीक हो जायेगा |
चौथाई कप जल में 3 ग्राम या तिन चने के बराबर नमक मिलाकर उस पानी को सूंघने से सिरदर्द में आराम होता हैं |

  • TB का रोग – Namak benefits

शरीर में चुन त्तत्व की कमी से यह रोग तेजी से बढ़ता हैं | इसमें शलजम ज्यादातर कच्ची ही खाएं | शलजम की सब्जी खायें | पीठ पर सूर्य की किरणे पड़ने दें |

  • त्वचा की कोमलता निखारे (Salt benefits for skin)

त्वचा शुल्क, खुश्क हो, हाथ, पैर, बिवाई फटती हों तो गर्म पानी में नमक मिलाकर धोएं, सेंक करें | इससे त्वचा कोमल हो जाएगी |

  • मोच व चोट लगना

नमक को तवे पर सेंके | इसे गर्म-गर्म मोटे कपडे में बांधकर दर्द वाली जगह को सेंकने से आराम मिलता है |
मोच आने पर खाने में काम आने वाल पान का एक पत्ता या आम के पत्ते तेल से चुपडकर थोड़ा सा नमक बहकाकर बांधने से लाभ होता हैं |

  • दाद ख़त्म करें

सेंधा नमक पर पानी डालकर पेस्ट बनाकर रोजाना तिन बार दाद पर लम्बे समय तक लेप करें | ठीक होने के बाद भी 14 दिन तक करें |

  • आँखों में दर्द, पानी आना बंद करें

जरा सा सेंधा नमक पानी में घोलकर आँखें धोएं | आँखें साफ़ हो जाएंगी और पानी आना, दर्द, दुखना ठीक हो जायेगा |
एक ग्लास पानी में थोड़ा सा धनिया, पुदीना डालकर उबालते हुए आधा पानी रहने पर स्वादानुसार नमक डालकर छानकर पियें | आँखों से पानी आने में लाभ होंगे |

  • पेटदर्द दूर करे

एक ग्लास गर्म पानी में आधा चम्मच नमक, आधा चम्मच पीसी अजवाइन और एक निम्बू निचोड़कर पइसे से पेटदर्द ठीक हो जाता हैं | मॉल साफ़ आता हैं |
तिन-तिन ग्राम नमक, चीनी और अजवाइन पीसी हुई पर आधा नीबू निचोड़कर चाटें | इससे गैस से उतपन्न पेटदर्द में लाभ होगा |

  • दस्त बंद करे

सेंधा नमक पीपल छोटी हर तीनों सामान मात्र में पीस लें | इसकी आधा-आधा चम्मच ठन्डे पानी से रोजाना दो बार भोजन के बाद लेने से अपच के दस्त बंद हो जाते हैं |
एक चम्मच सेंधा नमक, 20 छोटी इलायची पीसकर आधा-आधा चम्मच सुबह शाम पानी से फांकी लें | आंव के दस्त ठीक हो जायेंगे |

  • भूख नहीं लगना (भूख खोलदेगा)

अदरक पर नमक डालकर भोजन करने से पहले खाएं | भूख अच्छी लगेगी | इसके रस में नमक डालकर थोड़ा सा पानी मिलाकर भी पि सकते हैं |

  • मुंह की बदबू दूर करे

रोजाना चार बार पानी में नमक मिलाकर गरारे, कुल्ले करें | हल्का तरल भोजन करें | बबदु आना बंद हो जाएगी |

Also Read : लहसुन खाना क्यों हैं जरुरी – Lahsun Ke Fayde

  • उल्टी बंद करे

काला नमक, पोदीना, प्याज की चटनी खाने से लाभ होता हैं | सेंधा नमक भुना हुआ जीरा, शक्कर सामान भाग में मिलाकर पीस लें | इसकी एक चम्मच एक कप गुनगुने गर्म पानी में घोलकर पिने से उलटी बंद हो जाती हैं | उल्टियां अधिक हो रही हो तो इसे बार-बार लें |

  • कब्ज ख़त्म करे

गर्म पानी में अपने टेस्ट के हिसाब से काल और सेंधा नमक घोलकर नीबू निचोड़कर सुबह पियें | जल्द कब्ज ठीक हो जाएगी |
काला नमक, अजवाइन छोटी हर्ह और सोंठ सामान मात्र में मिलाकर बारीक पीस लें | रात को खाने से एक घंटे बाद आधा चम्मच नमक की गर्म पानी से फांकी लें | कब्ज दूर हो जाएगी |

  • दांत और मसूड़ों में दर्द

सफ़ेद फिटकरी, हल्दी व सेंधा नमक तीनों बराबर मात्रा में लेकर बारीक (मैदा के सामान) पीसकर एक शीशी भर लें | दांत, मसूड़ों में दर्द होने पर थोड़ा सा इस मिश्रण को हथेली पर रखकर दस बूंदे सरसो का तेल टपका कर मिला लें और अंगुली से हलके-हलके दांत मसूड़ों पर लेप कर दें | फिर थोड़ी देर मसलें | लार टपकाते रहे | इसके बाद पानी से कुल्ले कर लें | ऐसा सुबह शाम करें | दर्द में लाभ होगा |

  • शक्तिवर्धक हैं नमक

बिमारी ठीक होने के बाद कमजोरी दूर करने के लिए एक बाल्टी गर्म पानी में एक मुट्ठी पिसा नमक घोलकर स्नान करें | नमक के पानी से नाहने के बाद गर्म पानी से और नहाएं (bath) | इससे बिमारी ठीक होने के बाद की कमजोरी दूर हो जाती है |

  • दर्द को ठीक करे

राई और नमक गर्म पानी से पीसकर दर्द वाले अंगो पर लेप करें , ऊपर पट्टी बांधें | यह संभव नहीं हो तो तिल के तेल में नमक मिलाकर मालिश करें |
एक किलो गर्म पानी में चार चम्मच नमक डालकर सेंक करने से गठिया में लाभ होता हैं |

  • आधे सर का दर्द

आधे सर में दर्द हो तो आधा चम्मच नमक, आधा चम्मच शहद में मिलाकर चाटें, आशातीत लाभ होंगे |

  • बंद मासिक धर्म

ठंडी हवा या पानी में काम करने से मासिक धर्म नहीं आ रहा हो तो दो-दो ग्राम नमक गर्म पानी से दिन में तिन बार लें, मासिक धर्म आने लगता हैं |

  • मलेरिया बुखार को ख़त्म करे

किसी भी तरक का मलेरिया हो, नमक से ठीक हो जाता हैं | नित्य काम में लिए जाने वाला नमक तवे पर अच्छी तरह इतना सेंके की वह भूरे रंग का हो जाये | यह बच्चे के लिए आधा चम्मच और बड़ों के लिए 1 चम्मच एक ग्लास गर्म पानी में घोलकर मलेरिया भुखार आने से पहले भूखें पेट पिला दें | इससे बुखार नहीं चढ़ेगा | रोजाना इसी तरह सेवन करें 3-4 दिन तक ऐसे सेवन करने से मलेरिया ठीक हो जायेगा |

  • मिर्गी ख़त्म करे

मिर्गी का दोहरा पढ़ने पर तत्काल नमक मलें शीघ्र हो आ जायेगा |

  • भुखार (ज्वर)

गर्म पानी के आधे ग्लास में आधा चम्मच नमक डालकर रोजाना तिन बार पियें बुखार ठीक हो जायेगा |

  • खांसी ख़त्म करे

कालीमिर्च, सेंधा नमक, सोंठ और गूढ़ सब को ५-५ ग्राम एक ग्लास पानी में डालकर, तेज उबालें | आधा पानी रहने पर छानकर सुबह-शाम पिने से खांसी ख़त्म हो जाती हैं |
खांसी हो, गले में कफ जमा हो तो सेंधा या काला नमक धीरे-धीर चूसने से लाभ होता हैं |

  • दर्द, अनिद्रा (नींद कम आना)

तवे पर नमक को सेंककर चूसते रहे | इससे नींद आ जाती हैं | शरीर में कहीं भी दर्द हो, दर्द में आराम होता हैं | लाभ नहीं होने पर हर २० मिनट से तिन बार लें |
रात को सोते समय दो चम्मच प्याज के रस में थोड़ा सा नमक डालकर पिने से नींद जल्दी आ जाती हैं |

  • ज्यादा नमक से सुंदरता को खतरा

महिलाएं स्वयं को सुन्दर और चर्चरा बनाए रखना चाहती हैं तो वे खाने में नमक की कटौती करें इससे सुंदरता के साथ-साथ शरीर भी स्वस्थ रहेगा |
ज्यादा नमक खाने से अमाशय का कैंसर होने का खतरा भी बहुत ज्यादा रहता हैं | हमें अपने बच्चों को सास, केचप, पैकेट सुप, इंस्टैंट नूडल्स जैसी चीजों से बचाना चाहिए क्योंकि इन सब बाजारू उत्पादों में नमक की मात्र काफी ज्यादा होती हैं |

  • सर्दी जुकाम का नुस्खा

सेंधा नमक, कालीमिर्च, हल्दी यह सब 6 ग्राम पीसकर एक ग्लास पानी में उबालें | आधा पानी रहने पर गर्म-गर्म पियें |
घी और नमक मिलाकर गर्म करके सिने पर मालिश करें | गर्म पानी में शहद डालकर पियें जुकाम ठीक हो जायेगा |

  • बदन दर्द अपच

नमकीन शिकंजी पिने से अपच और बदन दर्द में फायदे होते हैं |

  • यकृत प्रदाह (Pain in Liver)

आधा चम्मच सेंधा नमक, चार चम्मच राय, पानी डालकर पीसकर यकृत स्थान पर पांच मिनट लेप करें और फिर धोकर घी लगा दें | इससे यकृत में हो रहे दर्द में लाभ होगा |

  • तेज प्यास लगना

नमक ग्रंथियों का रस सुखाता हैं, इसी कारण से प्यास अधिक लगती हैं | जिन्हें pyass अधिक लगती हो वह नमक अल्प मात्र में खाएं |

  • नकसीर

एक चम्मच पानी में जरा-सा नमक घोलकर नाक में तिन बून्द डालें रक्तस्राव बंद हो जायेगा |
दमा का रोगचौथाई चम्मच नमक एक ग्लास गर्म पानी में मिलाकर पिने से लाभ होता हैं |

  • पथरी की शिकायत – namak benefits

पथरी हो जाने पर नमक का अधिक सेवन करें, इससे पेट में जमी हुए पथरी निकल जाती हैं |

उम्मीद है दोस्तों benefits of salt in hindi language यह पढ़कर आपको नमक से होने वाले फायदे उर नुकसान के बारे में बहुत कुछ जानने को मिला हो. ऐसे ही खाने वाली चीजों के फायदे और नुकसान के बारे में पड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें.

loading...

Leave a Reply

error: Please Share This but dont Copy & Paste.