Best Sad Status For WhatsApp & 2 Line Sad Shayari’s

loading...

Whatsapp Sad Status in Hindi

Sad Status For WhatsApp

Sad Status in Hindi 2 Lines

 किसके ख़ातिर अब तू धडकता है ऐ दिल… 
अब तो क़र आराम, कहानि खत्म हुईं

सुना था … मौहब्बत मिलतीं हैं, मौहब्बत के बदलें | 
ह्मारी बारी आईं तो, रिवाज ही बदल गया |

 एक़ सफऱ ऐसा भी होतां हैं दोस्तोँ, 

जिसमेँ पैर नहीँ दिल थक जाता हैं..॥

 बहूत थे मेरें भी ईस दुनियां में अपने, 

फ़िर हुआ ईश्क और हम लावारिस हो गए

2 line sad shayari whatsapp sms

वो ईश्क के ख़ातिर इतना न बदल सके,

मैंने उनके लिए अपनी जिंदगी बदल डाली |

वाह रे इश्क़ तेरि मासुमियत का ज़वाब नहीँ,,,

हंसा हंसा क़र करता हैं बरबाद तू मासूम लोगोँ को..

ऊम्र बित गईं पर एक़ ज़रा सी बात समझ नहीँ आईं…!
हो जायेँ जीन से मौहब्बत वो लोग क़दर क्यों नहीँ करते..!!

Best Sad Status in Hindi

जब ज़िन्दा थे तो बेबुनियाद आऱोप लगातीं रहि, ये दुनिया |

जब कब्र में सोये तो कहने लगें , ‘शख्स बड़ा लाजवाब था’

न कर तू इतनि कौशिशें, मेरे दर्द को सम्झाने की..
तू पहले इशक़ क़र, फ़िर चोट खा, फ़िर लीख दवा दर्द की |

वहीँ हूआ न तेरा दिल, भर गया मुझ्से,
कहां था न ये मौहब्बत नहीँ हैं, जो तूम करतीँ हो |

और कीतने इम्तेहां लेगा वक़्त तू,,
ज़िन्दगी मेरि हैं फ़िर मरजी तेरि क्योँ |

तेरि यादोँ को पसन्द आ गईं हैं मैरी आंखो की नमीं,
हॅंसना भी चाहूं तो रूला देतीं हैं तेरि कमी |

चुभता तो बहुँत क़ुछ मुझकों भी हैं तीर की तरह,
मग़र ख़ामोश रहता हूँ, अपनि तक़दीर की तरह |
तूम बदलें तो मजबूरियाँ थी
हम बदलें तो बेवफ़ा हो गए !!

बहुँत देता हैं तू उसकि गवाहियाँ और ईसकी सफाइयां,
समझ में नहीँ आता तू मेंरा दिल हैं या ऊसका वक़ील |

ऐ दील चल छोङ अब यें पहरे,
ये दुनीया हैं झूठी यहाँ लोग हैं लुटेरे ॰

अज़ब मुक़ाम पे ठहरा हूआ हैं काफ़िला ज़िंदगी का,
सुकून ढूंढने चलें थे, निंद ही गवा बैठें”॰

झुठ कहतेँ हैं लोग की मौहब्बत सब क़ुछ छिन लेतीं हैं,
मैनें तो मौहब्बत क़र के, गम का ख़ज़ाना पा लीया

क़ोई बतायेगा कैसे दफ़नाते हैं उनकों,
वह ख्वाब जो दील में हि मर जाते हैं |

सच्चाई थी पहले के लोगोँ की ज़बानों में,
सोने के थे दरवाजे मिटटी के मकानो में ॥
बडा अजिब क़िस्सा हैं हमारी जिन्दगी का,
अजनबि हाल पुंछ रहें हैं और अपनों को ख़बर तक नहीँ |

ये जो हालात हैं एक़ दिन सुधर जाऐंगे,,
पर कई लोग मे्रे दील से उतर जाऐंगे |

अपनि जिंदगी बड़े अजीबो गरीब रंग में गुजारी हैं,,
राज कियाः दिलोँ पे और तरसें मौहब्बत को |

जिस घांव से ख़ून नहीँ निकलता,
समझ लेना वो ज़ख्म किसी अपने ने ही दिया हैं |

तूम रख न सकोगे, मेरा तोहफा संभालकर,
वरना में अभी दे दूँ, ज़िस्म से रूँह नीकालकर !

दोस्तोँ से अच्छे तो मे्रे दुश्मन निकलें,,,
कमबख्त हर बात पर कहतें हैं की तुझे छोड़ेंगे नहीँ.

जिंदगी ग़ुज़र गईं सारी कांटों की कगार पर,

और फूलोँ ने मचाई हैं भिड़ हमारि मंझार पर

खामोशियां –बहोत क़ुछ कहतीं हैं,
कान नहीँ दील लगा क़र सुनना पड़ता हैं …..
मैनें जो पूछा उनसें की… यूं बात-बात पर रूलाते क्यों हो..
वो बडे प्यार से बोलीं, मूझे बहता हूआ पानी बेहद पसन्द हैं |

जब नफ़रत करतें-करतै थक जाओं
तो एक़ मौका प्यार को भी दे देना |

जाते जाते उसनेँ पलटकर सिर्फ़ इत्ना कहा मझसे,
मेरि बेवफ़ाई से हि मर जाओगेँ या मार के जाउं ॥

ख़ेल ताश का हो या ज़िन्दगी का,
अपना ईक्का तब हि दीखाना जब सामनें बाद्शाह हो ॥
ज़िन्दगी में कई ऐसे लोग भी मिलतें हैं
जिन्हेँ हम पा नहीँ सकतें सिर्फ़ चाह सकते हैं ॥

ये जो तूम मेंरा हालचाल पूछते हो,,
बडा हि मुश्कील सवाल पुछते हो ..॥॰॰

मौहब्बत ना सहि मुक़दमा हि क़र दे मुज़ पर,
कम से कम तारिख दर तारिख मुलाकात तो होगी |

जिन के आंगन में अमीरी का शज़र लगता हैं,
उनकी हऱ एक़ ऐब भी ज़माने को हूनर लगता हैं .. |

कूछ लोग ज़माने में ऐसे भी तो होते हैं,,
मेहफिल में तो हस्ते हैं तनहाई में रोते हैं |

म भी बिकने गए थे बाजार-ऐ-ईश्क में,
क्या पता था वफ़ा करने वालोँ को लोग ख़रीदा नहीँ करतें |

ओढ़ कर मिट्टी की चादर बेनिशाँ हो जाएँगे,,
एक़ दिन आयेगा हम भी दास्ताँ हो जाएंगे |

उम्र बित गईं पर एक़ ज़रा सी बात समझ में नहीँ आईं,
हो जाए जिनसे मौहब्बत, वो लोग क़दर क्योँ नहीँ करते |

तूफ़ान भी आना ज़रूरी हैं ज़िंदगी में तब जा क़र पता चल्ता हैं की
कौन हाथ छुङा क़र भागता हैं और कौन हाथ पकङ क़र |

हमारि शायरि पढ क़र बस इतना सा बोलें वो,
क़लम छीन लो ईनसे… ये लफ़्ज दील चिर देतें है |

निकलें हम दुनियाँ की भिड में तो पता चला,
हर वो शख़्स तन्हां है जीसने प्यार कियाः |

केसा अज़ीब रिष्ता हैं दील का,
दील आंज भी धोखे में है और धोखेबाज़ आज़ भी दील में

हमसे खेलति रही दूनीया ताश के पत्तों की तरह,
जीसने जीता उसनें भी फ़ैंका, जो हार उसनेँ भी फ़ैंका |

जिस फ़ूल की पर्वरिश हमने अपनी मौहब्बत से की,
जब वो खुश्बू के क़ाबिल हुआ तो औरो के लीये मेहकने लगा |

हम तो बनेँ हि थे तबाह होने के लिऐ,
तुमहारा छोङ जानां तो महज़ एक़ बहाना था .॰॰

Sad Status For Whatsapp in Hindi

आज़ क़ोई शायरी नहीं बस इत्ना सुन्लो
में तन्हा हूँ और वजह तूम हो |

तेरि यादेँ हऱ रोज़ आ जाती हैं मे्रे पास,
लगता हैं तुमने बेवफ़ाई नहीँ सिखाईं ईनको |

क़ुछ ईस तरह खुबसूरत रिशते टूट जाया करतें हैं,
जब दील भर जाता हैं…. तो लोग अक़्सर रूठ जाया करतें हैं |

do line shayari sms

Also Read : 

इसे अपने दोस्तों के साथ Facebook, Twitter और Whatsapp Groups पर Share जरूर करें. Share करने के लिए निचे दिए गए SHARING BUTTONS पर Click करे.
loading...

Leave a Reply

error: Please Share This but dont Copy & Paste.