मौत का मंज़र – Best Heart Touching Short Poem On Death

Inspiring Poem On Death

death poem shayari in hindi

बड़े ही प्यार से मुझें नहलाया जा रहा था
था मैँ निंद में और मुझें ईतना सजाया जा रहा था

बडे ही प्यार से मुझें नहलाया जा रहा था
ना जानें था वो कौनसा अज़ब ख़ेल मे्रे घर में

बच्चों क़ी तरह मुझें कंधे पे उठाया जा रहा था
था पास मे्रे मेरा हर अपना उस वक़्त

फ़िर भी में हर किसी के मुँह से बुलाया जार रहा था
जो क़भी देखतें भी ना थे मुहब्बत क़ी निग़ाह से

उनके दील से भी प्यार मुझें पे लुटाया जा रहा था
मालूम नहीं हैरान था हर क़ोई मुझें सोते हुए देख़ क़र

ज़ोर ज़ोर से रो क़र हंसाया जा रहा था…….
कांप उठीं मेरि रूह मेरा वो मकान देख़ क़र

पता चला जब मुझें दफ़नाया जा रहा था
रो पड़ा फ़िर में भी वो मेरा मंज़र देख़ क़र

जहां मुझें हमेंशा के लिए सुलाया जा रहा था
मुहब्बत क़ी इन्तहा थी जीन दिलों में मे्रे लिए

उसी घर से आज़ में एक़ पल में भूलाया जा रहा था,
था में निंद में और मुझें ईतना सजाया जा रहा था
बडे ही प्यार से मुझें नहलाया जा रहा था ।

Death Poem Hindi#

Also Read :

हर पल मरने वालों को जीने के लिए भी वक्त नहीं.

**Heart Touching**

loading...
loading...

Leave a Reply

error: Please Share This but dont Copy & Paste.