में अकेला मुर्गा – Tenaliraman Ki Majedar Kahani

Sending
User Review
0 (0 votes)

तेनालीराम की कहानियाँ

tenali ramana stories

अकेला मुर्गा….

एक दिन राजा कृष्णदेव राय ने तेनालीराम के उपहास के लिए अन्य लोगों के साथ मिलकर एक योजना बनाई | योजना के हिसाब से सभी ने अपने जेबो में एक-एक अंडा रख लिया |

जब तेनालीराम आए तो कृष्णदेव राय बोले, तेनालीराम इस हौज में कूदने पर एक अंडा मिलता हैं | हम सभी इसमें कूदेंगे ओर अंडा लेकर आएंगे | तुम भी कूदना.

बारी-बारी करके सभी दरबारी कूदते गए ओर अंडे लाते रहे | आखिरी में तेनालीराम के कूदने की बारी आई | तेनालीराम कूदकर जब बाहर निकले तो खाली हाथ थे  तेनालीराम को खाली हाथ आते देख कर सब उन पर हंसने लगे | सभी को हँसते हुए देख कर तेनालीराम खामोश व् गंभीर हो गए |

कृष्णदेव राय ने तेनालीराम का मजाक उड़ाते हुए स्वर में कहा, सभी लोग एक-एक अंडा ढूंढ लाए | लेकिन सिर्फ तुम कुछ नहीं लाए | क्यों, क्या बात है ? हार गए न |

तेनाली राम की कहानियों और पड़ने Click करें

कृष्णदेव राय की बात सुनते ही तेनालीराम ने, फटाक से उत्तर दिया, यह बात नहीं है, हुजूर ! तेनालीराम ने बड़े सहज स्वर में कहा, बात यह है की में ही एक अकेला मुर्गा हूँ |

जो मुर्गियां थी, वे ही तो अंडे दे सकती थी | इतनी मुर्गियों ने मेरी बदौलत अंडे दिए है | कृष्णदेव राय ठहाका लगाकर हंस पड़े ओर बुरबल जे विरोधी मूह लटकाकर रह गए |

More Stories Must Read :

Share Now

Leave a Reply