क्या होता है सोलह श्रृंगार, जानिए इसमें कौन-कौन से श्रृंगार होते है Solah Shringar Kaise Kare

loading...

What is Solah Shringar

solah shringar

aishwarya rai

क्या हैं सोलह श्रृंगार ?

स्त्रियों के लिए हिन्दू शास्त्रों में सोलह श्रृंगार निर्धारित किए गए हैं | प्राचीन ग्रंथो में वर्णित सोलह श्रंगार, आदिकाल से चली आ रही श्रंगार परंपरा की एकरसता को दर्शाती हैं | जानिए solah shringar list in Hindi language

Solah shringar names : सोलह श्रृंगार के नाम-

solah shringar

स्नान (Bathing) : श्रंगार का सर्वप्रथम क्रम स्नान से प्रारंभ होता हैं | शास्त्रानुसार स्नान के भी कई प्रकार होते हैं |

वस्त्र : बिना वस्त्रों के तो सारा सौंदर्य कांतिहीन प्रतीत होता है | प्रस्तर युग से ही शीत, ग्रीष्म से बचने के लिए मनुष्य ने वृक्षों की छाल व पशुओं की खाल से अपना तन ढँकना शुरू कर दिया था | कालांतर में सभ्यता के विकास के साथ-साथ वस्त्रों में भी वैरायटी आ गई | वस्त्रों को विभिन्न वस्तुओं से सजाया भी जाने लगा | वस्त्रों का पहनना मात्र ही उसकी मर्यादा को प्रतीत करता हैं |

हार : हार पहनने के पीछे वास्तव में स्वाथ्यगत कारण हैं | गले और इसके नजदीकी क्षेत्र में ऐसे प्रेशर बिंदु होते हैं, जिनसे शरीर के कई हिस्सों को लाभ प्राप्त होता होता हैं | इसीलिए हार को सौंदर्य का दर्जा दे दिया गया और हार श्रृंगार का अभिन्न अंग बन गया |

बिंदी : मस्तक सौंदर्य में बिंदी का महत्वपूर्ण स्थान माना जाता हैं | इसे सौभाग्य का प्रतिक भी कहा गया हैं | शास्त्रों के ज्ञाताओं ने बिंदी लगाने के पीछे कई शास्त्रीय तर्क दियें हैं |

अंजन : आँखों को सुन्दर बनाने के लिए एवं आँखों की सुरक्षा के दृष्टिकोण से अंजन (काजल) का प्रयोग किया जाता हैं | अंजन का प्रयोग बुरी नजर से बचने के लिए भी किया जाता हैं |

अधरंजन : होंठो या अधरों की सुंदरता बढाने के लिए उन्हें कई रंगो से रंगा जाता हैं | प्राचीन काल में फूलों के रसों द्वारा यह कार्य संपन्न किया जाता था |

नथ या नथनी : नाक को शोभामय बनाने के लिए नाक में छेद करके कई प्रकार की नथ पहनी जाती हैं | सौंदर्य वृद्धि के साथ-साथ मुख से सम्बंधित बिन्दुओ के द्वारा मुख सौंदर्य बने रखने में नथ सहयोग देती हैं |

केश सज्जा : मुख की आभा बढ़ाने में केशो का महत्वपूर्ण योगदान होता हैं | केशों को सुगन्धित तेलों से सराबोर करके उन्हें विभिन्न आकारों में सजाना, शृंगार को बढ़ा देता हैं |

Solah shringar list in hindi

कमरबंध : कमर को सौंदर्यवान बनाने के लिए कमरबंध का प्रयोग किया जाता हैं | इसे सोने, चाँदी के साथ हीरे, मोती जड़कर विभिन्न आकारों में बनाया जाता हैं |

चरणराग : पैर व हांथो की हथेलियों की सौंदर्य वृद्धि तथा त्वचा की सुरक्षा के लिए मेहंदी लगाने की परम्परा है |
दर्पण : सम्पूर्ण सौंदर्य को निहारने के लिए दर्पण को भी सोलह श्रृंगारों में विशेष दर्ज प्राप्त हैं | सौंदर्य में कमी न रह जाए, इसलिए दर्पण का प्रयोग जरुरी है |

Also Read : 

नमस्ते दोस्तों हमसे Facebook पर जुड़ने के लिए यहां क्लिक करे. हमारा Group Join करे और Page Like करे. "Facebook Group Join Now" "Facebook Page Like Now"
loading...

Leave a Reply

error: Please Share This but dont Copy & Paste.