खुद को स्थापित करें Be Yourself, Orison Swett Marden

Be Yourself by Swett Marden

नई रहे बनाए, Creating a new way 

अगर आप successful होना चाहते है तो, आपको मौलिक होना पड़ेगा और मौलिक होने के लिए सबसे पहले अपने आपको पहचाने, अपने स्वरुप को जाने और अपनी inner soul की आवाज़ सुने |

सभी तरह की दुख-परेशानियों को हटाते हुए अपने रास्ते का खुद निर्माण करें, तभी दुनिया पर आपका प्रभाव पड़ेगा | जो आदमीं कर्मक्षेत्र में सीना ठोंककर व सीर ऊंचा कर अपनी उपस्थिति की घोषणा करता है, सारा संसार उसके आगे नतमस्तक होता है |

कोई भी काम हो, आप दूसरों की नक़ल मत कीजिए, दूसरों के पीछे मत चलिए, काम को उसी ढंग से मत कीजिये, जिस ढंग से आपसे पहले वाले लोग करते आए है | उसे मौलिकता से, अपने नए ढंग से कीजिये और लोगों पर अपनी मौलिकता, विशिष्टताऔर खूबी की छाप लगा दीजिये |

यह clear कीजिये की आपकी मौलिकता और ढंग के समक्ष पिछले ढंग बहुत मामूली थे | आपका स्वतंत्र और मौलिक काम करने का ढंग success प्राप्त करने के लिए जरुरी है | आप दृढ़ से निश्चय से काम करना चाहिए और इसकी चिंता नहीं करनी चाहिए की हम अधिक सफल होते है या कम | बस, इतना ध्यान रखना है की किसी की नक़ल न करें |

New -York में एक होटल है, जो अपना विज्ञापन कभी नहीं करता, लेकिन फिर भी लोग वहां आते है | जब लोग होटल से बाहर निकलते हैं, तो हमेशा उसके बारें में ही बात करते है | सभी बातें सामान होने पर भी वे इस होटल के ग्राहक बनना पसंद करते है |

अगर कुछ लोगों की होटल में कमरा लेने की capacity नहीं होती, तो वे वहां भोजन के लिए चलें आते है | Indeed वे उस होटल में नए-नए fashion और Celebrities को देखने जाते हैं |

इसका मतलब यह नहीं की अगर आप नए ढंग से काम करें, तो इतने से ही आपको success मिल जाएगी, इसका मतलब यह है की आपकी मौलिकता impressive और Attractive हो, तभी उसका कुछ Value हो सकता है | Ineffective एवं Less Attractions मौलिकता से profit नहीं होता |

ऐसे सेंकडो लोग है, जो Eternally नए तरीको की खोज करते हैं, पर कभी Remarkable success achieve नहीं कर पाते | इसका reason सिर्फ यही है की उनकि मौलिकता Ineffective होती है | उसमें कोई Attraction नहीं होता | Also Read : आपका नजरिया ही सुख दुःख को तय करता हैं

नक़ल से बचें, Avoid copying

नक़ल करने वाले आदमी से बढ़कर आकर्षणविहीन और क्या हो सकती है ? जिस इंसान की मुखाकृति पर उसके व्यक्तित्व की छाप नहीं या जिसमें कुछ ख़ास नहीं, उसका भी कोई व्यक्तित्व हो सकता है ? दृढ़ और passionate आदमी को सभी पसंद करते है | बहुत से व्यक्ति अपने आदर्श व्यक्तियों और नेताओं की नक़ल करने का प्रयास करते है |

कोई उनके कपड़ों की नक़ल करते है | कोई उनके बोलने के ढंग की | इसका result यह होता है की ऐसे व्यक्ति अपनी विशिष्ठता को भी गावं बैठते हैं और जिन नेताओ का अनुकरण करने की कोशिश करते हैं, वैसे कभी नहीं बन पाते | इसका reason यह है की उनमें अपने आदर्श व्यक्ति अथवा नेता जैसी शक्ति नहीं होती | फिर संसार भी तो नक्कालों कोई कभी आगे नहीं बढ़ने देता |

Read Also : हमारे मन की भाषा | Awareness moral story of osho in Hindi 

खुद को स्थापित करें, Present Yourself

आज के समय में इंसान की जरूरतें दिनों-दिन बढती जा रहीं है | जिस तरह आज की सभ्यता इंसान को नया से नया काम करने की चुनौती दे रही है, ऐसे में दुनिया की मांग के हिसाब से आदमी को मस्तिष्क में भी स्थिरता लानी होगी, अपने thoughts को बदलना होगा, जरूरतों के हिसाब से खुद को तैयार करना होगा | आज की condition के हिसाब से अपने को ढालने के लिए सारी स्थितियों और प्रयत्नों को बदलना जरुरी है |

महत्वकांक्षा ही आदमी के दिमाग में changes या Correction लाने वाली शक्ति है | जो व्यक्ति अपने जीवनउद्देश्य को पक्का कर लेते है, अपनी महत्कांक्षा को determined कर लेते है, वही महत्वपूर्ण होते हैं | उनके दिमाग में अब तक हुए changes के result से Bright future की स्पष्ट छाप होती है |

उदेश्य ही सर्वोपरि, Golden Purpose

अगर हमारा जीवनउदेश्य महान है, तो उसे सबसे सर्वोपरि होना चाहिए और उसकी तुलना में और सभी इच्छाए तुच्छ हो जानी चाहिए | ध्यान रहे की जीवनउदेश्य आपका Cheap Principle होना चाहिए | लक्ष्य के बिना कोई भी व्यक्ति मौलिक या creative नहीं बन सकता | जब तक व्यक्ति एकाग्रा होकर मन को किसी एक बिंदु पर एकाग्र नहीं करता, तब तक उन्नति के पथ पर अग्रसर नहीं हो सकता और न अपने जीवनउद्देश्य को प्राप्त कर सकता है |

दुख की बात है की बहुत लोगों को अपने पेशे में थोड़ी भी रूचि नहीं होती और उन्हें बड़ी सरलता से उस धंधे से अलग किया जा सकता है | इसका कारण यही है की वे हर समय इसी दुविधा में रहते हैं की जिस काम में वे लगे हुए है, क्या वह ठीक हैं और क्या वह उससे लाभ उठा सकते हैं ?

ऐसे व्यक्ति जब किसी दूसरे व्यक्ति को किसी दूसरे काम-धंधे में सफल होते देखते हैं, तो अक्सर सोचते है की क्यों न वे भी उसी धंधे में भाग्य आजमाए | जिस व्यक्ति का अपने काम धंधे से इतना Loosely संबंध हो, वे सफल कैसे हो सकते हैं ?

खुद को पहचाने, Recognize yourself

हमें हर जगह ऐसे लोग मिल ही सकतें है, जो अपनी उम्र का अधिक भाग बीत जाने पर भी जाग्रत नहीं होते | उन्होंने शक्ति और योग्यता का बहुत ही कम use किया होता है और इसी कारण वह मध्यम दर्जे के रह गए | उनकी सर्वोत्तम शक्ति और योग्यता इतनी सो गई की वे उसे जगा नहीं सके | ऐसे लोगों से मिलने पर आपको पता चलेगा की उनमें भी महान शक्ति छिपी हुए थी, लेकिन वह शक्ति भी उपयोग में नहीं लाइ गई | उनकी महान सफलताए उनके भीतर ही घुटकर रह गई |

आप जीवन में जो कुछ भी काम करें लेकिन महत्वकांक्षा को उत्तेजित करने वाले वातावरण में अवश्य रहैं, क्योंकि ऐसा वातावरण ही आपके विकास का मार्ग प्रशस्त कर सकता हैं | सदा उन्हीं लोगों की संगती में रहे, जो आपको समझते हैं, जजो आप पर विश्वास करते हैं, जो लक्ष्य-प्राप्ति में आपको निरंतर सहायता प्रदान करते है, जो आपको निरंतर उत्साहित एवं प्रेरित करते है

Search terms, orison orison swett marden books hindi free ebook, books in hindi

loading...

Leave a Reply

error: Please Share This but dont Copy & Paste.