Moral StoriesMotivational Stories

अब्राहम लिंकन की कहानियां – Motivational Stories Of Abraham Lincoln

Abraham lincoln Motivational Stories in Hindi

Abraham Lincoln stories in hindi

Story. 1 परिश्रमी लिंकन

abraham lincoln in Hindi – वह एक छोटे से गांव का एक साधारण सा युवक था। उसके पास पहनने के लिए न तो अच्छे कपडे थे न स्कूल की फीस थी, न रहने के लिए कोई ढंग का मकान ही था। ऐसे में शिक्षा कैसे प्राप्त कर सकता था? इसलिए वह चिंतित भी रहता था।

एक दिन वह उदास मन लिए सडक के किनारे चलता हुआ कुछ सोचते हुए चला जा रहा था। तभी एक व्यक्ति सिर पर ढेर सारा सामान लादे जाता दिखाई दिया। चलते-चलते वह किसी चीज से टकराकर गिर पडा। यह देखकर युवक उसकी और लपका और सहायता करने लगा, उस व्यक्ति के अनुरोध करने पर उसका कुछ सामान स्वयं ढोकर स्टेशन पर भी पहूचा दिया।

उस व्यक्ति ने भेटं स्वरूप युवक को कुछ रुपये दियें इन रुपयों से उसने पुस्तक खरीदी। अब तो वह नित्य ही स्टेशन जाने लगा और लोगों की मदद कर रुपये कमाने लगा । इस प्रकार अथक परिश्रम कर उसने अपनी शिक्षा पूर्ण की भविष्य में वही युवक अमेरिका का राष्ट्रपति बना अब्राहम लिंकन |

Story.2  नम्रता की मूरत

अब्राहम लिंकन एक बार अपने मित्र के साथ घोडाबगगी में बैठ कर घुमने निकले । अभी कुछ दूर निकले ही थे कि मार्ग में एक श्रमिक ने उन्हें झूककर नमस्कार किया। प्रत्युत्तर में लिंकन ने उससे भी अधिक झुक कर नमस्कार किया।
लिंकन को ऐसा करते देख उनके मित्र ने पूछा आपने उस श्रमिक को इतना झुक कर नमस्कार क्यों किया ? तब लिंकन बोले मैं अपने से अधिक नम्र किसी को नहीं देखना चाहता । यह सुनकर उनका मित्र नतमस्तक हो गया।

Story. 3 लिंकन का रहस्य

किसी व्यक्ति ने अब्राहम लिंकन से पुछा, ‘मान्यवर आप सामान्य नागरिक से राष्ट्रपति जैसे प्रथम नागरिक कैसे बने ?’ लिंकन मुस्कराते हुए बोले, मैंने कदम-कदम पर स्वयं की परख की, प्रत्येक विफलता से कुछ ग्रहण किया, फिर संभला और अपनी गलतियों को ठीक करते हुए अपना मार्ग खुद-ब-खुद बनाता गया | यही रहस्य है मेरे राष्ट्रपति बनने का |’

Short Biography of Abraham Lincoln

अब्राहम लिकंन का जन्म log cabin, Hardin Country में February 12, 1809 को हुआ था | और उनकी मृत्यु April 15, 1865 को 56 वर्ष की उम्र में हो गई थी | लिंकन अमेरिका के सबसे अधिक प्रसिद्ध लोगों में गिने जाते हैं | उन्होंने अपने जीवन में बहुत संघर्ष किया, उनके इस निर्भीक साहस और संघर्ष ने राष्ट्रपति के पद पर पहुंचा दिया था |

यदि आप आगे बढ़ना चाहते हैं, उन्नत्ति करना चाहते हैं, तो आपमें दृढ़ इछाशक्ति का होना बहुत जरुरी है | बाकी सभी बातें सामान होने पर भी केवल वही व्यक्ति सफल होता है जिसमें अपने प्रतियोगियों से भी अधिक प्रबल इछाशक्ति होती है | यह ठीक है की परिस्थितियाँ भी हमें आगे बढ़ने में सहायता प्रदान करती है, केवल इछाशक्ति के बल पर ही कोई व्यक्ति नेपोलियन, बेचर अथवा लिंकन नहीं बन सकता, लेकिन इछाशक्ति का कुशलता से उपयोग करना और समझ के साथ उसका समर्थन करना बहुत जरुरी है |

ऐसे हजारों व्यक्ति मौजूद हैं, जिनकी योग्यता बहुत ऊँचे दर्जे की थी, लेकिन वे अत्यंत साधारण पद पर ही काम करते रह गए, जबकि ओर अनेक व्यक्ति जैसे-जैसे उनसे अधिक ऊँचे पद पर जा पहुंचे | इसका अर्थ यह है की परिस्थितियाँ व्यक्ति के जीवन में महत्वपूर्ण स्थान रखती है |

लिंकन गरीबी में पैदा हुए, गुंडागर्दी में पलें और हर प्रकार से निरुत्साहित होने के बावजूद ऊँचा उठा और अमेरिका की राष्ट्रिय एकता और स्वाधीनता का सेनानी बन बैठें | उनकी प्रबल इच्छाशक्ति ने उनके मार्ग को प्रशस्त कर दिया | जिस समय उनके मित्रों ने उन्हें विधायक मनोनीत किया, तो शत्रुओं ने उनका बड़ा मजाक उड़ाया |

चुनाव प्रचार के दौरान वह जो कोट पहनते थे, वह इतना छोटा था की उसे पहनकर बैठने में भी उन्हें कठिनाई होती थी | उनकी फटी पतलून घुटनों तक पहुँचती थी | उनके सर पर तिनकों से बना टॉप होता था और पैरों में टूटे-फूटे बूट,लेकिन उस समय भी उन्होंने साहस न छोड़ा | जब वह विधानसभा का सदस्य चुने गायें, तो उन्होंने अपने सूट के लिए कपड़ा उधार लिया, ताकि विधानसभा सदस्य के रूप में सम्मानित दिख सके, और बड़ी बात तो यह है की वह विधानसभा में अपना स्थान ग्रहण करने के लिए सौ मिल पैदल चलकर गए थे |

Abraham lincoln Short Stories in Hindi जो व्यक्ति कमर कसकर, कठोर से- कठोर मेहनत करने के लिए सदा अपनी आस्तीन चढ़ाए तैयार रहते है और काम में तेजी से जुट जातें है जो नीरस काम से भी ऊबते या थकते नहीं है | जिन्हें काम के बिना चैन नहीं पड़ता, वे धुल मिटटी और कचरे में भी कभी काम करते नहीं घबराते, उन्हें काम से ही काम रहता है, वास्तव में ऐसे व्यक्ति सौभाग्यशाली होते हैं | मानव जाती का इतिहास ऐसे लोगों के कारनामों से भरा पड़ा है, जिन्होंने दुर्भाग्य, निर्धनता और अनादर की पीठ पर लात मारकर सौभाग्य, धन संपत्ति और मान सम्मान को मुठ्ठी में कर लिया |

loading...